UPSC syllabus in Hindi Prelims and Mains

UPSC syllabus in Hindi Prelims and Mains

UPSC IAS Exam 2019 Syllabus in Hindi

UPSC syllabus in Hindi: IAS परीक्षा की तैयारी शुरु करने से पहले IAS परीक्षा के पाठ्यक्रम का ज्ञान पूरी तरह से होना अनिवार्य है। IAS परिक्षा का पाठ्यक्रम बहुत ही विस्तृत एंव व्यापक है। IAS परीक्षा के पाठ्यक्रम का ज्ञान IAS Exam की तैयारी के लिए सही रणनीति बनाने में काफी लाभदायक साबित होता है।

भारतीय प्रशासनिक सेवा का पाठ्यक्रम IAS Exam की तैयारी का महत्वपुर्ण आधार है। भारतीय प्रशासनिक सेवा का पाठ्यक्रम IAS Exam की तैयारी के अलावा सही रणनीति बनाने में भी सहायक है। भारतीय प्रशासनिक सेवा परीक्षा में अपना चयन सुनिश्चित करने के लिए IAS पाठ्यक्रम का ज्ञान पूरी तरह से होना अनिवार्य है।

IAS परिक्षार्थियों को भारतीय प्रशासनिक सेवा के पाठ्यक्रम में छिपे आयामों को जानना बहुत आवश्यक है। इससे IAS परिक्षार्थियों को हर परिपेक्ष में अपना नज़रिया विकसित करने में सरलता का अनुभव होगा। भारतीय प्रशासनिक सेवा के पाठ्यक्रम में दिए गए विभिन्न विषयों का अपना अलग विशेष स्थान है, जिसे जानना IAS परिक्षार्थियों के लिए बहुत ही आवश्यक है।

संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा का पाठ्यक्रम 

  • नई परीक्षा प्रणाली के अनुसार, वर्तमान में प्रारंभिक परीक्षा में दो प्रश्नपत्र शामिल हैं। पहला प्रश्नपत्र ‘सामान्य अध्ययन’ का है जबकि दूसरे को ‘सिविल सेवा अभिवृत्ति परीक्षा’ (Civil Services Aptitude Test) या ‘सीसैट’ कहा जाता है और यह क्वालीफाइंग पेपर के रूप में है। 
  • दोनों प्रश्नपत्र 200-200 अंकों के होते हैं। पहले प्रश्नपत्र (सामान्य अध्ययन) में 2-2 अंकों के 100 प्रश्न होते हैं जबकि दूसरे प्रश्नपत्र (सीसैट) में 2.5-2.5 अंकों के 80 प्रश्न। 
  • दोनों प्रश्नपत्रों में ‘निगेटिव मार्किंग की व्यवस्था लागू है जिसके तहत 3 उत्तर गलत होने पर 1 सही उत्तर के बराबर अंक काट लिये जाते हैं। सीसैट में निर्णयन क्षमता से संबद्ध प्रश्नों में गलत उत्तर के लिये अंक नहीं काटे जाते।
  • चूँकि अब सीसैट पेपर को सिर्फ क्वालीफाइंग कर दिया गया है इसलिये प्रारंभिक परीक्षा पास करने के लिये किसी भी उम्मीदवार को सीसैट पेपर में सिर्फ 33 प्रतिशत अंक (लगभग 27 प्रश्न या 66 अंक) प्राप्त करने आवश्यक हैं। अगर वह इससे कम अंक प्राप्त करता है तो उसे फेल माना जाता है। अब कट-ऑफ का निर्धारण सिर्फ प्रथम प्रश्नपत्र यानी सामान्य अध्ययन के आधार पर किया जाता है। 
क्. सं.विषय विभाजनपाठ्यक्रम विवरण
1इतिहासभारत का इतिहासऔर भारतीय राष्ट्रीय आंदोलनप्राचीन भारतीय इतिहासमध्यकालीन भारतीय इतिहासआधुनिक भारतीय इतिहास
2भूगोलभारत एंव विशव भूगोल प्राकृतिक भूगोलमानवीय भूगोलआर्थिक भूगोल
3भारतीय राज्यतंत्र और शासनभरतीय संविधानराजनैतिक प्रणालीपंचायती राजलोक नीतिअधिकारों सम्बंधी मुद्दे आदि
4अर्थव्यवस्थाआर्थिक एंव सामाजिक विकाससतत् विकासगरीबी समावेशनजंसंख्यिकीसामाजिक क्षेत्र में की गई पहल आदि
5पर्यावरण और पारिस्थितिकीयपर्यावरण और पारिस्थितिकी के सिद्धांतजेव-विविधता और मौसम परिवर्तनसामान्य सिद्धांत सम्बंधी सामान्य मुद्देविभिन्न शिखर सम्मेलन
6सामान्य विज्ञानभौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान और प्रौद्योगिकीसामान्य सिद्धांतप्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नवीनतम विकास
7सामयिक घटनाएंइस में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय महत्व के सभी घटनाएं शामिल हैंसामयिकीकरंट अफेयर्स विश्लेषणसभी आयामों के साथ करंट अफेयर्स

प्रश्नपत्र -1

प्रारंभिक परीक्षा के प्रश्नपत्र-1 का संबंध ‘सामान्य अध्ययन’ से है। इसका पाठ्यक्रम निम्नलिखित है-

1. राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व की सामयिक घटनाएँ (Current events of national and international importance)

2. भारत का इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन (History of India and Indian National Movement)।

3. भारत एवं विश्व का भूगोल : भारत एवं विश्व का प्राकृतिक, सामाजिक, आर्थिक भूगोल (Indian and World Geography – Physical, Social, Economic Geography of India and the World)।

4. भारतीय राज्यतंत्र और शासन- संविधान, राजनीतिक प्रणाली, पंचायती राज, लोकनीति, अधिकारों संबंधी मुद्दे इत्यादि (Indian Polity and Governance – Constitution, Political System, Panchayati Raj, Public Policy, Rights Issues etc)।

5. आर्थिक और सामाजिक विकास- सतत् विकास, गरीबी, समावेशन, जनसांख्यिकी, सामाजिक क्षेत्र में की गई पहल आदि (Economic and Social Development, Sustainable Development-Poverty, Inclusion, Demographics, Social Sector initiatives etc)।

6. पर्यावरणीय पारिस्थितिकी, जैव-विविधता और जलवायु परिवर्तन संबंधी सामान्य मुद्दे, जिनके लिये विषयगत विशेषज्ञता आवश्यक नहीं है (General issues on Environmental Ecologh2y, Bio-diversity and Climate Change – that do not require subject specialization)।

7. सामान्य विज्ञान (General Science)।

प्रश्नपत्र -2

प्रारंभिक परीक्षा के प्रश्नपत्र- 2  का संबंध ‘सीसैट’ से है। इसका पाठ्यक्रम निम्नलिखित है-

  • बोधगम्यता (Comprehension)।
  • संचार कौशल सहित अंतर-वैयक्तिक कौशल (Interpersonal skills including communication skills)।
  • तार्किक कौशल एवं विश्लेषणात्मक क्षमता (Logical reasoning and analytical ability)। 
  • निर्णय लेना और समस्या समाधान(Decision-making and problem-solving)। 
  • सामान्य मानसिक योग्यता (General mental ability)।
  • आधारभूत संख्ययन (संख्याएँ और उनके संबंध, विस्तार-क्रम आदि) (दसवीं कक्षा का स्तर); आँकड़ों का निर्वचन (चार्ट, ग्राफ, तालिका, आँकड़ों की पर्याप्तता आदि- दसवीं कक्षा का स्तर) [Basic numeracy (numbers and their relations, orders of magnitude, etc.) (Class X level), Data interpretation (charts, graphs, tables, data sufficiency etc. (Class X level)] 

नोट – प्रारंभिक परीक्षा में वस्तुनिष्ठ प्रकृति (Objective type) के प्रश्न पूछे जाते हैं, जिसके अंतर्गत प्रत्येक प्रश्न के लिये दिये गए चार संभावित विकल्पों (a, b, c और d) में से एक सही विकल्प का चयन करना होता है। 

मुख्य  परीक्षा (MAINS) के लिए UPSC  सिलेबस

UPSC CSE में आपका पद केवल मुख्य परीक्षा  साक्षात्कार (Personality Test) पर निर्भर होगा । आपके मुख्य UPSC CSE  में १७५० अंक  और साक्षात्कार अनुभाग  में २७५ अंक होते हैं।

मुख्य पेपर के लिए तुम्हारे UPSC सिलेबस में ९ पेपर होते हैं , लेकिन केवल ७ पेपर ही अंतिम रैंकिंग के लिए लिया जाता है।  शेष दो पेपर में आपको न्यूनतम अंक सुरक्षित करना होता है जो कि  UPSC  घोषित करती,

लेकिन  UPSC सिविल सर्विस की मुख्य परीक्षा पूरी तरह से लिखित परीक्षा है, इसमें उल्लेखित पेपर निम्नलिखित हैं –

१. दो पेपर जो की योग्यता के लिए गिने जाते हैं न की अंतिम योग्यता  के लिए.

पेपर-अ

( आपको संविधान की ८ वी अनुसूची में शामिल किसी भी एक भारतीय भाषा का चयन करना पड़ेगा ) कुल अंक ३००।

नोट – अगर आप सिक्किम , नगालैंड, मिजोरम , मणिपुर ,मेघालय, अरुणांचल प्रदेश ,के हैं तो , ये पेपर आपके लिए जरुरी नहीं है। 

पेपर – ब

अंग्रेजी भाषा।  कुल अंक ३००।

UPSC  सिलेबस और पेपर जो अंतिम गुण के लिए गिने जाते है-

पेपर-१ , अंक २५०।

निबंध

पेपर – २ , अंक २५०।

सामान्य अध्ययन – १ ( संस्कृति और भारतीय विरासत , दुनिया और समाज का इतिहास और भूगोल )

पेपर – ३ , अंक-२५०।

सामान्य अध्ययन -२ (संविधान , प्रशासन , सामाजिक न्याय ,राजनीति और अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध )

पेपर – ४ , अंक २०५।

सामान्य अधययन -३ (आर्थिक विकास , प्रौद्योगिकी , पर्यावरण , जैव विविधता , आपदा प्रबंधन एवं सुरक्षा (Disaster Management and Security) )

पेपर – ५ , अंक २५०।

सामान्य अध्ययन – ४ (aptitude , ईमानदारी नैतिकता )

पेपर- ६ अंक २५०।

वैकल्पिक विषय – पेपर १

पेपर – ७ अंक २५०।

वैकल्पिक विषय – पेपर २

उप कुल ( लिखित )       १७५० अंक

व्यक्तित्व परिक्षण           २७५ अंक

महयोग                          २०२५  अंक

UPSC सिलेबस के बारे में महत्वपूर्ण नोट –

१. आपके पेपर A और B भारतीय भाषा में रहेगा और अंग्रेजी पेपर क्रमशः मेट्रिक या उसके बराबर होगा।आप इस परिसखा में प्राप्त करेंगे वह आपकी रैंकिंग में नहीं गिना जाएगा।

२. पेपर अर्थात ‘ निबंध ‘ का मूल्यांकन , सामान्य अध्ययन और वैकल्पिक विषय , भारतीय भाषा और अंग्रेजी के उनकी योग्यता के पेपर के मूल्यांकन के पेपर के साथ किया जायेगा और ‘ निबंध ‘ का पेपर , सामान्य अध्ययन और वैकल्पिक विषय उन्ही उम्मीदवारों का होगा जो भारतीय  भाषा और अंग्रेजी के पेपर में २५ % अंक हासिल करते हैं।

३.  अनिवार्य है की सिविल सेवा (Prelim) के दोनों पेपर में मूल्याङ्कन करना  है.अगर आप दोनों परीक्षाओं में मूल्यांकन नहीं करते हैं तो आप को आयोग्य कर दिया जायेगा।

साक्षात्कार  लिए UPSC syllabus in Hindi सिलेबस –

१. UPSC  मुख्य पेपर के योग्य उम्मीदवार ही साक्षात्कार के परिक्षण या ब्यक्तित्व परिक्षण के पत्र होंगे।

२. आपका साक्षात्कार बोर्ड के सदस्यों द्वारा होगा जिनके पास आपके करियर का रिकॉर्ड पहले से ही होगा।आपको  हित के मामलों पर सवाल पूछा जायेगा।

३. इस साक्षात्कार का उद्देश्य सार्वजनिक सेवा में अपने आगे के करियर के लिए अपने ब्यक्तिगत उपयुक्तता का मूल्याङ्कन करने क लिए होगा।इस परीक्षा से आपका मानसिक क्षमता का निर्णय होगा।

४. इस साक्षात्कार का परिक्षण न केवल आपके बौद्धिक गुणों बल्कि सामाजिक लक्षण और समसामयिक मामलों में भी रूचि प्रगट करेगा।

५. आपके गुणों में से कुछ बौद्धिक और नैतिक अखंडता ( Intellectual and Moral integrity), मानसिक सतर्कता, सामाजिक सामजस्य (social cohesion) और नेतृत्व आत्मसात के महत्वपूर्ण शक्तियों , न्याय के संतुलन , स्पस्ट और तार्किक प्रदर्शनी , विविधता और ब्याज की गहराई के लिए क्षमता को देखा जायेगा।

६. साक्षात्कार की तकनिकी वो सख्त जिरह परीक्षाओं की तरह नहीं लेकिन प्रकितिक सोद्देश्य बातचीत है जो उम्मीदवारों के मानसिक गुणों को प्रगट करती है।

७. आपका साक्षात्कार परीक्षा विशिष्ट या सामान्य ज्ञान है जो लिखित पेपर के परिक्षण से नहीं लिया जाता। आपका  बुद्धिमत्ता  रूचि सिर्फ आपके अकादमी अध्ययनों पैर ही नहीं लिया जाता बल्कि आपके आस पास क्या हो रहा है , और आपके राज्य व देश के बहार क्या हो रह है इसके साथ ही आधुनिक धाराओं और नई खोज जो शिक्षित युवाओं की जिज्ञासा बढ़नी चाहिए।

UPSC public administration syllabus in Hindi Pdf
UPSC cse syllabus in Hindi
UPSC syllabus in Hindi version
UPSC IAS syllabus in Hindi 2019

Share this:
Close Menu